FULL STACK डेवलपर बनने के लिए, आपके पास फ्रंट-एंड और बैक-एंड दोनों तकनीकों का ज्ञान और अनुभव होना चाहिए

Title 3

फ्रंट-एंड प्रौद्योगिकियां: HTML, CSS, JavaScript, jQuery, React, Angular, Vue, Bootstrap, और अन्य फ्रंट-एंड फ्रेमवर्क और लाइब्रेरी आने चाहिए ।

बैक-एंड प्रौद्योगिकियां: Node.js, PHP, रूबी ऑन रेल्स, पायथन, Django, ASP.NET, और अन्य बैक-एंड फ्रेमवर्क और प्रोग्रामिंग भाषाएँ।

डेटाबेस प्रौद्योगिकियां: MySQL, PostgreSQL, MongoDB, Oracle, SQL सर्वर और अन्य संबंधपरक और गैर-संबंधपरक डेटाबेस।

सर्वर प्रौद्योगिकियाँ: Apache, Nginx, AWS, Docker, Kubernetes और अन्य सर्वर प्रौद्योगिकियाँ।

Version control: Git, SVN और version control systems.

Testing and debugging tools: Jest, Mocha, Chai, Selenium, और testing and debugging tools.

Development Methods: Agile, Scrum, Waterfall, और development methods.

यह नोट करना महत्वपूर्ण है कि फुल-स्टैक डेवलपर बनना एक सतत सीखने की प्रक्रिया है, और आपको नवीनतम तकनीकों और उद्योग के रुझानों के साथ अद्यतित रहने की आवश्यकता होगी।